चीन ने दक्षिण चीन सागर में अपने लड़ाकू जेट तैनात किए

चीन ने दक्षिण चीन सागर में अपने लड़ाकू जेट तैनात किए

दक्षिण चीन सागर में अमेरिका और चीन के बीच तनाव इस समय अपने चरम पे है। दक्षिण चीन सागर के विवादित क्षेत्र में चीन के 70 दिनों के लंबे युद्धाभ्यास के जवाब में अमेरिका ने अपने दो विमान वाहक और बड़ी संख्या में लड़ाकू विमान तैनात के दिए हैं। अमेरिका द्वारा इस कार्रवाई के कारण चीन ने अब परेशान हो कर अपने कृत्रिम द्वीपों पर लड़ाकू जेट तैनात कर दिया हैं। चीन और अमेरिका के बीच जारी इस विवाद को लेकर दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में तनाव काफी बढ़ गया है।

उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों से पता चला है कि चीन ने दक्षिण चीन सागर में विवादित द्वीपों पर 8 लड़ाकू जेट तैनात किए हैं। इनमें से 4 J-11Bs हैं और बाकी बमवर्षक विमान और लड़ाकू जेट हैं जो अमेरिकी युद्धपोतों को निशाना बनाने में सक्षम हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, पहली बार चीन द्वारा वुडी द्वीप पर इतनी बड़ी संख्या में फाइटर जेट्स तैनात किए गए हैं। यह सैन्य अड्डा परासेल द्वीप समूह का सबसे बड़ा सैन्य अड्डा है। यह क्षेत्र चीन, वियतनाम और ताइवान से सटा है। इन चीनी के भेजे गए इन विमानों के कारण दक्षिण चीन सागर का सैन्यकरण अब तेजी से हो रहा है।

दक्षिण चीन सागर में चीन के किसी भी नापाक कृत्य का जवाब देने के लिए अमेरिकी युद्धपोतों ने अब दूसरे दौर की कवायद शुरू कर दी है। दो अमेरिकी विमान वाहक यूएसएस निमित्ज और यूएसएस रोनाल्ड रीगन इसमें भाग ले रहे हैं। इससे पहले, अमेरिकी युद्धपोतों ने 4 से 10 जुलाई तक अभ्यास किया था।

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि चीन अमेरिकी विमानों के खतरे को दिखाते हुए दक्षिण चीन सागर का सैन्यीकरण तेजी से कर रहा है। यही कारण है कि वह वुडी द्वीप पर अधिक लड़ाकू जेट तैनात कर रहा है। उनका कहना है कि चीन हमेशा से इन कृत्रिम द्वीपों पर हथियारों और लड़ाकू जेट तैनात करना चाहता था और अब अमेरिकी अभ्यास के बाद उसे ऐसा करने का मौका मिल गया है।

डिफेंस से सम्बंधी समाचार और समीक्षाओं के लिए हमें अभी सब्सक्राइब करे और नियमित रूप से अपडेट प्राप्त करने के लिए घंटी आइकन पर क्लिक करें। इसके अलावा आप हमें ट्विटर और फेसबुक पर भी फॉलो कर सकते है।

Leave a Reply