शेख सबा अहमद का 91 साल की उम्र में निधन, मोदी ने कहा- भारत ने करीबी दोस्त और दुनिया ने एक महान नेता खोया


कुवैत के अमीर शेख सबा अल-अहमद अल-सबा की मंगलवार को अमेरिका के एक अस्पताल में निधन हो गया। वे 91 साल के थे और काफी समय से बीमार चल रहे थे। न्यूज एजेंसी स्पुतनिक के मुताबिक, अमीर के निधन की पुष्टि उनके एक मंत्री ने की।

वे शेख जबर अल-सबा के निधन के बाद जनवरी 2006 में कुवैत के अमीर बने थे। वे शेख जबर-अल सबा के चौथे बेटे हैं। अल जजीरा के मुताबिक, शेख सबा जुलाई में इलाज के लिए अमेरिका गए थे। उन्हें लाने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने विमान भेजा था। इस पर कुवैत के क्राउन के लेटर लिखकर उन्हें थैंक्स कहा था।

सबा 40 साल तक देश के विदेश मंत्री रहे

सबा इस क्षेत्र में शांति कायम करने के लिए मध्यस्थता करने के लिए जाने जाते थे। जब सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और कतर के बीच राजनीतिक विवाद बढ़ा तो उन्होंने इस मसले को हल करने में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने सीरिया के लिए डोनर कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया था। इसकी मदद से सीरिया के लिए लाखों डॉलर जुटाए गए थे। 40 साल तक उन्होंने देश के विदेश मंत्री के तौर पर सेवाएं दी थी। देश का शासक बनने से पहले वे प्रधानमंत्री के तौर पर भी अपनी सेवाएं दे चुके थे।

नए अमीर की नियुक्ति की गई

कुवैत ने क्राउन प्रिंस शेख नवफ अल-अहमद अल सबा को नया अमीर नियुक्त किया है। वे पूर्व अमीर सबा के सौतेले भाई हैं। नवफ अल-अहमद अल सबा को संविधान के मुताबिक, देश के कैबिनेट ने नया अमीर नियुक्त किया। उप प्रधानमंत्री अनस खालिद अल-सालेह ने एक टेलीविजन इंटरव्यू में इसकी जानकारी दी।

2002 में उन्होंने अपेंडिक्स हटवाया था

इससे पहले 2002 में उन्होंने अपेंडिक्स हटवाया था। इसके दो साल के बाद पेस मेकर फिट कराया और 2007 में उन्होंने अमेरिका में यूरीन नली की सर्जरी कराई। फिलहाल, अमेरिका में ही उनका इलाज चल रहा था। कुवैत के टीवी चैनलों ने अपने रेगुलर प्रोग्राम को रोक दिया। जब भी गल्फ अरब स्टेट के सत्तारूढ़ परिवार के किसी सीनियर मेंबर की मौत होती है, तो टीवी चैनल ऐसा करते हैं।

मोदी ने कहा- कुवैत में हमेशा भारतीय समुदाय का विशेष ध्यान रखा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया- आज, कुवैत और अरब दुनिया ने एक महान नेता, भारत ने एक करीबी दोस्त और दुनिया ने एक महान नेता खो दिया। उन्होंने हमारे द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने में अग्रणी भूमिका निभाई। कुवैत में हमेशा भारतीय समुदाय का विशेष ध्यान रखा।

कुवैत में अमेरिकी दूतावास ने कहा- अमीर शेख ने इस क्षेत्र में शांति और स्थिरता लाने के लिए अपना जीवन समर्पित किया।

##

जॉर्डन में 40 दिन का शोक

जॉर्डन ने 40 दिनों का शोक घोषित किया है। जॉर्डन के राजा किंग अब्दुल्ला ने ट्वीट किया- आज हमने एक महान भाई और एक बुद्धिमान नेता खो दिया जो जॉर्डन से प्यार करता था।

2017 में इलाज के लिए भारत आए
शेख सबा 2017 में इलाज के लिए भारत आए थे। उन्हें नोएडा के जीपी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वे आठ पत्नियों और 30 प्रतिनिधिमंडल के साथ यहां आए थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


यह फोटो 26 नवंबर 2012 की है, जब अमीर शेख सबा अहमद लंदन पहुंचे थे।

Leave a Reply