बच्चों को ईजी लगा पेपर-1 तो पेपर- 2 ने किया कैंडिडेट्स का मूड ऑफ, केमिस्ट्री आसान रही,लेकिन फिजिक्स और मैथ्स ने किया परेशान


देशभर में आज जेईई एडवांस की परीक्षा का आयोजन किया गया। कम्प्यूटर आधारित (CBT) मोड के जरिए जेईई एडवांस का पेपर-1 और पेपर-2 पूरा हुआ। सुबह 9 बजे से 12 बजे तक पे पर-1 और दोपहर 2:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक दूसरे पेपर की परीक्षा हुई। इस साल परीक्षा के लिए करीब 1.60 लाख कैंडिडेट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया था। परीक्षा में शामिल हुए कैंडिडेट्स से परीक्षा को लेकर मिलीजुली प्रक्रिया देखने को मिली।

पिछले साल की तुलना में आसान था पेपर

स्टूडेंट्स के मुताबिक ओवर ऑल पेपर मीडियम था, लेकिन पिछले साल की तुलना में कुछ आसान भी रहा। कुछ कैंडिडेट्स को जहां कैमिस्ट्री और फिजिक्स के प्रश्न आसान लगे, तो कुछ को मैथ्स का पोर्शन काफी कठिन लगा। स्टूडेंट्स ने बताया कि मैथ्स में कैल्कुलस से 5-6 प्रश्न थे। फिजिक्स में लगभग सभी प्रश्न 11वीं और 12वीं क्लास से पूछे गए हैं। वहीं, कुछ कैंडिडेट्स ने यह भी कहा कि फिजिक्स काफी लेन्दी थी।

ओवरऑल एवरेज रहा पेपर

JEE एडवांस्ड की परीक्षा में शामिल हुई भोपाल की पाखी भार्गव ने बताया कि ओवरऑल पेपर एवरेज था। हालांकि, पेपर-1 की तुलना में पेपर- 2 ज्यादा कठिन रहा। उन्होंने बताया कि दोनों ही पेपर में सबजेक्ट्स के लेवल काफी अलग थे। पेपर 1 में जहां NCERT के कुछ क्वेश्चन पूछे गए, तो वहीं पेपर-2 के न्यूमेरिकल्स को सॉल्व करना थोड़ा मुश्किल भरा रहा। वहीं, कोरोना की गाइडलाइन को लेकर पाखी ने कहा कि पेपर- 1 और पेपर- 2 के बीच मिले ढ़ाई घंटे के दौरान एक ही जगह बैठे पैरेंट्स और स्टूडेंट्स के बीच कोई सोशल डिस्टेंसिंग नजर नहीं आई।

फिजिक्स ने किया सबसे ज्यादा परेशान

एडवांस्ड की परीक्षा देने वाले सोहिल सिसोदिया ने बताया कि परीक्षा में केमिस्ट्री सबसे सरल थी। जबकि मैथ्स का लेवल मॉडरेट रहा। दोनों ही पेपर में फिजिक्स सबसे कठिन था। उन्होंने बताया कि परीक्षा में थोड़े बहुत NCERT के क्वेश्चन भी पूछे गए थे। सोहिल ने यह भी कहा 11वीं-12वीं अच्छे से पढ़ने वाले स्टूडेंट्स आराम से पेपर कर सकते थे। उन्होंने कहा कि पहली बार परीक्षा देने के बाद अब एग्जाम की नॉलेज मिलने पर लगता है कि अभी थोड़ी और मेहतन करनी पड़ेगी।

पेपर-2 ने किया मूड ऑफ

अमन साहू बताते है कि एक तरफ जहां पेपर 1 मॉडरेट था, तो वहीं पेपर-2 काफी डिफीकल्ट रहा। उन्होंने बताया कि पेपर- 2 में फिजिक्स और मैथ्स ने काफी परेशान किया। जबकि पेपर- 1 में मैथ्स कठिन तो फिजिक्स मॉडरेट रहा। अमन कहा कि पेपर- 1 के क्वेश्चन आसान थे, लेकिन पेपर- 2 ने मूड ऑफ कर दिया। कोरोना गाइडलाइंस के बारे में अमन ने बताया कि सेंटर के अंदर सभी तरह के इंतजाम अच्छे थे। हालांकि, सेंटर के बाहर पैरेंट्स की भीड़ के कारण सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो नहीं होती नजर आई।

5 अक्टूबर को जारी होगा रिजल्ट

परीक्षा में क्वालिफाय होने वाले कैंडिडेट्स IIT में एडमिशन ले सकते हैं। इन इंस्टीट्यूट में IISc बैंगलोर, IISER, IIST, RGIPT, भारतीय पेट्रोलियम और ऊर्जा संस्थान, विशाखापत्तनम शामिल है। परीक्षा का रिजल्ट 5 अक्टूबर को जारी किया जाएगा। इसके बाद सीट आवंटन 8 अक्टूबर से शुरू होगा। काउंसलिंग ज्वाइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (JoSSA) के जरिए की जाएगी। एलिजिबल उम्मीदवार josaa.nic.in पर रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे। कैंडिडेट्स ध्यान दें कि इस साल सात के बजाय छह काउंसलिंग राउंड होंगे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


JEE Advanced 2020 Paper analysis|Overall the paper was moderate, candidates finds paper-1 easy but paper-2 very difficult; chemistry was quite easy, but physics and maths was hard

Leave a Reply